आईआईटी-एनआईटी प्रवेश के लिए देश के 22 बोर्डों की टॉप-20 पर्सेन्टाइल जारी

ज्वाइंट काउंसलिंग के प्रथम राउण्ड का सीट आवंटन आज

देश के कुल 107 कॉलेजों की 43185 सीटों के लिए जोसा द्वारा ज्वाइंट काउंसलिंग जारी है, जिसमें 23 आईआईटी की 12362 सीटों, 31 एनआईटी की 20437 सीटों, 25 ट्रिपलआईटी की 4617 सीटें एवं 28 जीएफटीआई की 5769 सीटें शामिल हैं।
आईआईटी-एनआईटी एवं ट्रिपलआईटी प्रवेश के लिए विद्यार्थियों को अन्य पात्रताओं के साथ-साथ 12वीं बोर्ड की पात्रता को भी पूरा करना अनिवार्य होता है, जिसके अनुसार विद्यार्थियों को अपने-अपने बोर्ड की कैटेगिरी अनुसार या तो टॉप-20 पर्सेन्टाइल में क्वालीफाई करना होता है या फिर सामान्य व ओबीसी के विद्यार्थियों को 75 प्रतिशत एवं एससी-एसटी विद्यार्थियों को 65 प्रतिशत अंक लाने होते हैं।
जोसा द्वारा बुधवार को देश के 22 बोर्डों की टॉप-20 पर्सेन्टाइल भी जारी कर दी गई। जारी किए गए बोर्डों की टॉप-20 पर्सेन्टाइल में बिहार, छत्तीसगढ़, गुजरात, झारखंड, महाराष्ट्र, मिजोरम, नागालैंड, ओडिशा, त्रिपुरा, यूपी बोर्ड की टॉप-20 पर्सेन्टाइल 75 प्रतिशत एवं कैटेगिरी अनुसार 65 प्रतिशत से कम रही है। इसके साथ ही आंध्रप्रदेश, सीबीएसई, आईसीएसई, हिमाचल, कर्नाटका, केरला, मध्यप्रदेश, पंजाब, बनस्थली, तेलंगाना तथा दयालबाग बोर्ड की टॉप 20 पर्सेन्टाइल 75 एवं कैटेगिरी अनुसार 65 प्रतिशत से अधिक रही है। वहीं गोवा बोर्ड की टॉप 20 पर्सेन्टाइल 75 पर्सेन्ट के बराबर रही है।

देश में जेईई-मेन एवं एडवांस में बैठने वाले सबसे अधिक विद्यार्थी सीबीएसई बोर्ड से होते हैं।  सीबीएसई बोर्ड की टॉप-20 पर्सेन्टाइल सामान्य वर्ग के लिए 83.6 प्रतिशत, ओबीसी की 81 प्रतिशत, एससी की 76 प्रतिशत एवं शारीरिक विकलांग व एसटी की 71 प्रतिशत रही है। वहीं राजस्थान बोर्ड की टॉप-20 पर्सेन्टाइल अभी तक जारी नहीं की गई है। परन्तु गत वर्ष यह 75 प्रतिशत से ज्यादा थी। देश में सबसे अधिक तेलंगाना व आंध्रप्रदेश बोर्ड की टॉप-20 पर्सेन्टाइल सबसे अधिक 92.4 प्रतिशत रही। वहीं सबसे कम ओडिशा बोर्ड की टॉप-20 पर्सेन्टाइल 62.8 प्रतिशत रही।
इस ज्वाइंट काउंसलिंग का प्रथम राउण्ड का सीट आवंटन गुरूवार को सुबह 10 बजे जारी होगा। विद्यार्थी जिन्हें प्रथम राउण्ड सीट आवंटन में किसी भी कॉलेज का सीट आवंटन हुआ है, उन्हें 28 जून से 2 जुलाई के मध्य बनाए गए देश के 63 रिपोर्टिंग सेंटर पर आवश्यक दस्तावेजों के साथ रिपोर्ट करना होगा। उन्हें किसी भी रिपोर्टिंग सेंटर पर जाने की आवश्यकता नहीं है, उन्हें आगे की काउंसलिंग राउण्ड का इंतजार करना होगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *