जेईई-मेन जनवरी-2020 के लिए 11 लाख से अधिक रजिस्ट्रेशन

आज से प्रारंभ होने वाली बीई-बीटेक के लिए 9 लाख 21261 देंगे परीक्षा

नेशनल टेस्टिंग एजेंसी द्वारा आयोजित की जाने वाली देश की सबसे बड़ी इंजीनियरिंग प्रवेश परीक्षा जेईई-मेन जनवरी-2020 की शुरुआत सोमवार से हो गई। पहले दिन बीआर्क व बी-प्लानिंग कोर्स के लिए दो सत्रों में परीक्षा हुई, जिसमें करीब डेढ़ लाख विद्यार्थी शामिल हुए। मंगलवार से बीई-बीटेक के लिए जेईई-मेन परीक्षा शुरू होगी, जो कि 9 जनवरी तक पूर्णतः कम्प्यूटर बेस्ड मोड पर प्रत्येक दिन दो शिफ्टों में होगी।

एनटीए द्वारा परीक्षा का विस्तृत विवरण जारी कर दिया गया है। इस विवरण के अनुसार 6 से 9 जनवरी के मध्य होने वाली जेईई-मेन जनवरी परीक्षा के लिए कुल 11 लाख 18 हजार 673 विद्यार्थी पंजीकृत हुए हैं, जिनमें 9 लाख 21 हजार 261 विद्यार्थी बीई-बीटेक परीक्षा के लिए, 1 लाख 38 हजार 409 बीआर्क एवं 59003 विद्यार्थी बी-प्लानिंग के लिए रजिस्टर्ड हुए। 6 जनवरी को हुई बीआर्क परीक्षा 345 एवं बी-प्लानिंग की परीक्षा 327 केन्द्रों पर संपन्न हुई। साथ ही आज से प्रारंभ होने वाली बीई-बीटेक परीक्षा के लिए 231 शहरों में 567 परीक्षा केन्द्र बनाए गए हैं, जिसमें 9 परीक्षा केन्द्र विदेशों में बनाए गए हैं। विदेशों में बनाए गए इन परीक्षा केन्द्रों पर 1006 विद्यार्थियों ने परीक्षा के लिए आवेदन किया है।

बीई-बीटेक के लिए पंजीकृत कुल 9 लाख 21 हजार 261 विद्यार्थियों में सामान्य श्रेणी के 3 लाख 58597, ईडब्ल्यूएस श्रेणी के 84645, ओबीसी कैटेगिरी के 358539, एससी कैटेगिरी के 85257 एवं एसटी कैटेगिरी के 34223 विद्यार्थी शामिल हैं। इसके साथ ही विकलांग श्रेणी (पीडब्ल्यूडी) के 2843 विद्यार्थी भी परीक्षा में शामिल हुए हैं। परीक्षा के लिए आवेदन करने वाले विद्यार्थियों में 6 लाख 38 हजार  219 छात्र तथा 2 लाख 83 हजार 038 छात्राएं शामिल हैं।

नए पैटर्न में बीई-बीटैक

आहूजा ने बताया कि इस वर्ष जेईई-मेन परीक्षा में 90 की जगह कुल 75 प्रश्न पूछे जाएंगे, जिनमें विषयवार फिजिक्स, कैमेस्ट्री एवं मैथेमेटिक्स में 25-25 प्रश्न होंगे। प्रत्येक विषय के इन 25 प्रश्नों में 20 प्रश्न बहुविकल्पी एवं 5 प्रश्न न्यूमेरिकल वैल्यु बेस्ड रहेंगे, प्रत्येक प्रश्न के सही उत्तर के लिए 4 अंक एवं गलत उत्तर के लिए ऋणात्मक मूल्यांकन के तहत एक अंक काटा जाएगा। परन्तु न्यूमेरिकल वैल्यु बेस्ड तीनों विषयां के कुल 15 प्रश्नों में ऋणात्मक मूल्यांकन नहीं होगा। इस प्रकार इस वर्ष कुल 75 प्रश्न 300 अंक के होंगे, जो कि गत वर्ष से 60 अंक कम हैं।

कोटा के लिए राहत

राजस्थान में नौ शहरों में परीक्षा हो रही है। इसमें अजमेर, अलवर, बीकानेर, जयपुर, जोधपुर, कोटा, सीकर, श्रीगंगानगर व उदयपुर शामिल है। इस वर्ष कोटा के विद्यार्थियों को परीक्षा केन्द्र दो से बढ़ाकर 9 किए जाने पर विशेष राहत मिली है, जिससे विद्यार्थी सुविधापूर्वक समय की बचत करते हुए परीक्षा केन्द्रों पर आसानी से पहुंच सकते हैं। परीक्षा केन्द्रों की संख्या बढ़ने के बाद हजारों विद्यार्थियों को कोटा में ही रहकर परीक्षा देने का अवसर मिल सकेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *