जेईई-मेन रैंक-पहली बार नॉर्मलाइज पर्सेन्टाइल स्कोर पर जारी होगी

31 जनवरी को जारी किया जाएगा स्कोर, वहीं ऑल इंडिया रैंक अप्रेल जेईई-मेन के बाद 30 अप्रेल को होगी जारी

देश की सबसे बड़ी इंजीनियरिंग प्रवेश परीक्षा जेईई-मेन जो कि इस वर्ष प्रथम बार पूर्णतः कम्प्यूटर बेस्ड 8 से 12 जनवरी के मध्य दो शिफ्टों में संपन्न हुई, जिसमें 8 जनवरी को बीआर्क-परीक्षा एवं 9 से 12 जनवरी को मध्य बीई एवं बीटैक के लिए संपन्न हुई।
एनटीए द्वारा विभिन्न शिफ्टों में हुए जेईई-मेन परीक्षा की पारदर्शिता को बनाने के लिए विद्यार्थियों के पहली बार जेईई-मेन स्कोर को   के आधार पर नॉर्मलाइज कर ऑल इंडिया रैंक जारी करने का निर्णय लिया गया है। पूर्व में जारी किए गए नोटिस के अनुसार प्रथम बार प्रत्येक विद्यार्थी के स्कोर के आधार पर सात डेसिमल तक पर्सेन्टाइल निकाली जाएगी। यह पर्सेन्टाइल एक सेशन में कुल बैठने वाले विद्यार्थियों की संख्या एवं उस सेशन में अधिकतम अंक के आधार पर जारी की जाएगी। यह पर्सेन्टाइल नियम विद्यार्थियों के कुल औसतन प्राप्तांकों पर भी लागू होगा एवं उसी के अनुसार मैथ्स, फिजिक्स एवं कैमेस्ट्री के प्राप्तांकों पर भी लगेगा। विद्यार्थियों का स्कोर 31 जनवरी को घोषित होगा। साथ ही स्कोर के आधार पर प्रत्येक विद्यार्थी की पर्सेन्टाइल भी घोषित की जा सकती है।
ऐसे विद्यार्थी जिनका जनवरी जेईई-मेन में प्रदर्शन अपेक्षा के अनुसार नहीं रहा है, उन्हें निराश होने की कोई आवश्यकता नहीं है, क्योंकि उनके पास 6 से 20 अप्रेल के मध्य पुनः जेईई-मेन देने का विकल्प उपलब्ध है। साथ ही एनटीए द्वारा भी विद्यार्थियों के दोनों परीक्षाओं के प्राप्तांकों के आधार पर निकाली गई पर्सेन्टाइल में से अधिकतम पर्सेन्टाइल के आधार पर ही उनकी ऑल इंडिया रैंक घोषित की जाएगी। ऑल इंडिया रैंक बनाने के लिए सर्वप्रथम विद्यार्थियों के कुल प्राप्तांकों की औसतन पर्सेन्टाइल ली जाएगी। यदि दो विद्यार्थियों की औसतन पर्सेन्टाइल समान आती है तो सर्वप्रथम दोनों विद्यार्थियों की मैथेमेटिक्स के अंकों के अनुरूप निकाली गई पर्सेन्टाइल, इसके बाद फिजिक्स और अंत में कैमेस्ट्री के अंकों के पर्सेन्टाइल के आधार पर परिणाम जारी किया जाएगा। यदि यह स्थिति भी समान होती है तो अधिक आयु को ऑल इंडिया रैंक जारी करने का आधार माना जाएगा। जेईई-मेन ऑनलाइन परीक्षा के हर सेशन में यह पर्सेन्टाइल नियम लागू किया जाएगा और सभी सेशन में बैठने वाले विद्यार्थियों की पर्सेन्टाइल स्कोर को मर्ज कर नॉर्मलाइज किया जाएगा। नार्मलाइज पर्सेन्टाइल स्कोर के आधार पर ही विद्यार्थियों की ऑल इंडिया रैंक 30 अप्रेल को जारी की जाएगी। इसी प्रकार जेईई-मेन के उच्चतम अंकों के आधार पर जेईई-एडवांस्ड देने की पात्रता भी निर्धारित की जाएगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *