जेईई मेन-2021,तीसरा अटेम्पट 20 से 25 जुलाई एवं चौथा 27 जुलाई  से  2 अगस्त के मध्य

दोनों एटेम्पट के मध्य  केवल 1 दिन का गेप

पहली दो परीक्षाओं के मुकाबले कड़़ा होगा कम्पीटिशन

केन्द्रीय शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक ने मंगलवाल शाम को जेईई के शेष दो अटेम्प्ट्स के संबंध में महत्वपूर्ण सूचनाएं जारी कर दी। आगामी दो अटेम्प्ट को लेकर स्थितियां स्पष्ट हो गई हैं। इसके साथ ही इन परीक्षाओं की तैयारियों और एडवांस्ड के साथ-साथ आईआईटी में प्रवेश की काउंसलिंग की राह भी सुगम होती नजर आ रही है। केन्द्रीय शिक्षा मंत्री के अनुसार आने वाले दो अटेम्प्ट में से तीसरा अटेम्पट 20 से 25  जुलाई  एवं चौथा 27 जुलाई  से  2 अगस्त के मध्य होंगे।

अप्रैल सेशन के लिए 6 लाख 80 हज़ार विद्यार्थियों ने एवं मई सेशन के लिए 6 लाख 9 हज़ार विद्यार्थियों ने रजिस्ट्रेशन करवाया है। साथ ही कोविड  संक्रमण क चलते परीक्षा शहरो की संख्या 232 से बढ़ाकर 334 कर दी गयी है और इसके अलावा परीक्षा केन्द्रो की संख्या 660 से बढ़ाकर 828 कर दी गयी है। विद्यार्थी जो पूर्व से आवेदन करने से चूक गए है वे तीसरे सेशन की परीक्षा के लिए 6 से 8 जुलाई के मध्य एवं चौथे सेशन की परीक्षा के लिए 9 से 12 जुलाई के मध्य आवेदन कर सकते है साथ ही ऐसे विद्यार्थी जिन्होंने पहले आवेदन किया हुआ है और वे अब आवेदन में कोई करेक्शन करना चाहते है तो वे भी दिए गए समय में आवेदन में करेक्शन कर सकते है। करेक्शन के दौरान विद्यार्थी अपनी सभी परीक्षा केंद्र,केटेगरी,आदि  में बदलाव भी कर सकते है। तीसरे और चौथे एटेम्पट के मध्य मात्रा 1 दिन का गेप दिया गया है जो विद्यार्थियों के लिए चुनौतीपूर्ण हो सकता है। ऐसे में अब जेईई- एडवांस्ड परीक्षा अगस्त अंत और सितम्बर प्रथम- द्वित्य सप्ताह में होना संभावित है।

आने वाले दो अटेम्प्ट में स्टूडेंट्स के बीच पिछले दो अटेम्प्ट्स के मुकाबले कम्पीटिशन और अधिक कठिन देखने को मिल सकता है। इसके पीछे कारण है कि तीन माह से स्टूडेंट्स परीक्षा की तैयारी कर रहे हैं। यही नहीं इस समय में बीच में होने वाली बोर्ड परीक्षाएं निरस्त हो चुकी है। तीन माह का रिवीजन और बोर्ड परीक्षाएं निरस्त होने के बाद मिला समय स्टूडेंट्स के लिए लाभदायक साबित होगा। वहीं पहले व दूसरे अटेम्प्ट में अच्छा प्रदर्शन नहीं कर सके स्टूडेंट्स भी अधिक संख्या इन अवसरों का लाभ लेंगे। साथ ही बोर्ड परीक्षाएं निरस्त होने के कारण वे विद्यार्थी जो बोर्ड परीक्षाओं के कारण पूर्व में प्राप्त अच्छी पर्सेन्टाइल होने पर बचे हुए शेष अटेम्प्ट नहीं देते वे भी अब इस परीक्षा में बैठेंगे, इससे तीसरे और चौथे अटेम्प्ट में विद्यार्थियों की संख्या बढ़ेगी। पूर्व की दो परीक्षाओं में जिन स्टूडेंट्स ने 99.5 पर्सेन्टाइल से अधिक एनटीए स्कोर प्राप्त किया हुआ है, ऐसे स्टूडेंट्स को जेईई-एडवांस्ड पर ज्यादा ध्यान देना चाहिए, क्यांकि उनका इस पर्सेन्टाइल पर टॉप एनआईटी में कोर ब्रांचेज मिलने का अवसर उपलब्ध है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *